मायके वालों की शिकायत पर कब्र खोदकर निकाला गया विवाहिता का शव ,मोके पर किया पोस्टमार्टम

by vaibhav

राजस्थान(भीलवाड़ा):- जिले के बनेड़ा थाना क्षेत्र के सरदारपुरा गांव में रविवार की सुबह एक विवाहिता का करीब डेढ़ माह पूर्व दफ्न किया गया शव बाहर निकाला गया। और उसका मोके पर ही मेडिकल टीम द्वारा पोस्टमार्टम किया गया। विवाहिता की डेढ़ माह पूर्व संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। विवाहिता की मौत के करीब डेढ़ माह बाद मायके वालों ने ससुराल वालो पर हत्या का आरोप लगाते हुए पोस्टमार्टम कराने की मांग की। पिता के आरोप पर एसडीएम ने कब्र से शव निकालकर पोस्टमार्टम कराने का आदेश दिया। रविवार को एसडीएम के नेतृत्व में स्थानीय पुलिस फोर्स ने शव को कब्र से निकालकर पोस्टमार्टम करवाया गया।

लड़की के पिता रमजान खान कायमखानी ने बताया कि मेरी बेटी का निकाह 29 जून 2020 को सरदारपूरा निवासी शाहरुख खांन पिता ज़ाकिर हुसैन खांन के साथ हुआ। ओर मेरी बेटी को कोई बीमारी नहीं थी। मेरी बेटी वर्तमान में A.M. फाइनल की परीक्षा दे रही थी। वह खो-खो की बहुत अच्छी खिलाड़ी थी। मेरी बेटी को ससुराल वाले आए दिन दहेज की मांग को लेकर प्रताड़ित करते रहते थे। 18 अक्टूम्बर को देहज के खातिर मेरी बेटी की हत्या कर दी। हम प्रशासन से मांग करते हैं। कि दोषियों को सख्त से सख्त सजा दें। और मेरी बेटी को न्याय दिलाएं।

लड़के का भाई आसिफ खांन कायमखानी ने बताया कि मेरे भाई शाहरुख खांन की निकाह 29 जून को भीलवाडा निवासी रमजान खांन की बेटी के साथ हुई। दोनों राजी खुशी रह रहे थे। शादी के करीब 4 महीने बाद 12 अक्टूबर को पेपर होने की वजह से मेरी भाभी उनके पियर गए। वहां पर ही उनकी तबीयत खराब हो गई थी। जहां पर उनके परिजनों ने उनका हॉस्पिटल में चेकअप भी करवाया। उसके बाद उनको किसी महाराज ने कहां की इसके ससुराल दरगाह है वहां ले जाओ फिर हमारे घर वाले उनको यहाँ सरदारपुरा लेकर आ गए। मेरी भाभी के माँ बाप भी उनके साथ आ गए। यहां उनको दरगाह लेकर गए जहाँ उनको चक्कर आए और वो जमीन पर गिर कर बेहोश हो गई। फिर उनको रायला हॉस्पिटल लेकर गए। वहां डॉक्टर ने उनको मृत घोषित कर दिया था। इस सारे घटनाक्रम में उनके माँ बाप साथ मे ही थे। फिर अगले दिन सुबह सरदारपूरा में दफन किया गया। उस टाइम उसके परिजन व उसके सभी रिश्तेदार मौजूद थे। लेकिन कुछ टाइम बाद लड़की के मामा जी ने 5 लाख रुपये की मांग की थी। वह हमारे पर दबाव बनाने लग गए। और हम पैसे देने में असमर्थ हुए। तो हमारे को केस लगाने की धमकी देने लगे। और हम पैसे नहीं दे पाए तो हमारे पर हत्या का झूठा आरोप लगा दिया गया। पहले इनके मामा के लड़के की तरफ से परिवाद बाद में माँ की तरफ से एफआईआर दर्ज करवाई गई थी। दोनो अलग-अलग बात कह रहे हैं। हम प्रशासन से मांग करते हैं। कि निष्पक्ष जांच करके दोषियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करें।

रिपोर्ट : मेंघरास हेमराज तेली

Related Posts