आज़मगढ़ :- मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने कहा कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के प्रकोप के कारण गत वर्ष में मण्डल के जनपदों में कई विकास कार्यों की प्रगति एवं रैंकिंग प्रभावित हुई है, परन्तु वर्तमान में अनलाॅक की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, ऐसे में सम्बन्धित अधिकारी तत्काल इस ओर विशेष ध्यान कर प्रगति की अपेक्षित सुधार लायें।

मण्डलायुक्त पन्त शुक्रवार को अपने कैम्प कार्यालय से ज़ूम ऐप के माध्यम से शासन के सर्वोच्च विकास प्राथमिकता से सम्बन्धित कार्यक्रमों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने तीनों जनपद के जिलाधिकारियों एवं मुख्य विकास अधिकारियों से कहा कि विकास कार्यक्रमों को अपेक्षित गति देने हेतु नियमित रूप से समीक्षा एवं अनुश्रवण करते रहें। मण्डलायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारियों निर्देश दिया कि लक्ष्य के सापेक्ष वैक्सीनेशन कराना सुनिश्चित करें तथा यदि कहीं किसी प्रकार की दिक्कत आ रही है तो उच्च अधिकारियों को तत्काल अवगत कराकर उसका समाधान करायें। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि गांवों की वैक्सीनेशन के प्रचार प्रसार एवं ग्रामीण में आगरुकता लाने हेतु नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों का सहयोग लिया जाय। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने यह भी निर्देश दिया कि शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के छोट बड़े दुकानदारों, ग्राम स्तरीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों, आंगनबाड़ी सहायिकाओं व कार्यकत्रियों, सरकारी व निजी विद्यालयों के अध्यापकों आदि का वैक्सीनेशन किये जाने पर विशेष ध्यान दिया जाय।

मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने मुख्य चिकत्सा अधिकारियों को यह भी निर्देश दिया कि प्रदेश के मा. मुख्यमन्त्री के निर्देशानुसार नाॅन कोविड अस्पतालों में बच्चों के लिए जो स्पेशल वार्ड बनाया जाना है उसे तत्काल बना लिया जाय। उन्होंने जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि जनपदों में कोविड-19 जो भी पाजीटिव केसेज़ मिल रहे हैं उसमें कितने रैण्डम केस मिलें इसकी नियमित रूप से मानीटरिंग करते रहें। मण्डलायुक्त ने आयुष्मान भारत योजना की समीक्षा में कहा कि यद्यपि कि पिछले 2-3 माह में गोल्डेन कार्ड बनाने की प्रगति अच्छी नहीं रही है, परन्तु अब स्थिति बदल चुकी है, इसलिए पूरी क्षमता से आगे बढ़ाया जाय। उन्होंने कहा कि जनपदों में जितने हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर बनने अभी शेष हैं उसे विशेष ध्यान देकर बनवाना सुनिश्चित करें। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने गो आश्रय स्थलों में संरक्षित पशुओं के चारे हेतु तत्काल चारा बैंक बनवाने तथा समय से सभी पशुओं का टीकाकरण अवश्य कराने हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने पंचायती राज विभाग की समीक्षा के दौरान पाया कि आज़मगढ़ एवं बलिया में कई सामुदायिक शौचालयों को निर्माण अभी अनारम्भ है। उन्होंने उप निदेशक पंचायत तथा सम्बन्धित डीपीआरओ को स्पष्ट रूप से निर्देशित किया कि इन दोनों जनपदों में जहाॅं भूमि उपलब्ध है वहाॅं अन्तिम रूप देते हुए निर्माण शुरू कराया जाय तथा जहाॅं जमीन उपलब्ध नहीं है उसके सम्बन्ध में शासन को अवगत कराते हुए लक्ष्य को संशोधित कराया जाय, यह कार्य 10 दिनों के अन्दर हो जाना चाहिए। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जिन ग्राम पंचायतों में पंचायत भवन निर्मित हो चुके हैं अथवा पूर्व से निर्मित हैं, उन पंचायतों के लेखपाल व अन्य ग्राम स्तरीय अधिकारियों वहाॅं अनिवार्य रूप से बैठना सुनिश्चित करें, इसके लिए तत्काल रोस्टर तैयार करें तथा उसकी प्रति उपलब्ध करायें।

मण्डलायुक्त ने समीक्षा के दौरान डीएम आज़मगढ़ राजेश कुमार, डीएम मऊ अमित सिंह बंसल, डीएम बलिया अदिति सिंह, तीनों जनपद के सीडीओ, सीएमओ एवं अन्य मण्डलीय व जनपदीय अधिकारियों से वार्ता किया। इस मौके पर अपर आयुक्त (प्रशासन) अनिल कुमार मिश्र व संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा भी उपस्थित थे।

रिपोर्ट : शैलेंद्र शर्मा