गुरु और शिष्य का रिश्ता बहुत ही अनमोल माना जाता है और यह रिश्ता सबसे ज्यादा पाक और पवित्र होता है। लेकिन इन दिनों एक ऐसी खबर सुर्खियों में चल रही है जिसने हैरान और परेशान कर दिया है। मामला अमेरिका के क्लाहोमा का है। जहां पर एक महिला टीचर को गिरफ्तार कर लिया गया को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोप था कि 40 वर्षीय महिला टीचर जेनिफर अर्नोल्ड को कथित तौर पर 13 से 14 साल की उम्र के लड़कों को अपनी नग्न तस्वीरें भेजती है । जिसके आरोपों ने गिरफ्तार कर लिया गया। हालांकि, 10,000 डॉलर के बांड पर उसे रिहा कर दिया गया है।



मीडिया रिपोर्ट के माध्यम से मिली जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि पुलिस की पड़ताल में पाया गया कि महिला टीचर ने एक 13 वर्षीय और एक 14 वर्षीय लड़के को अपनी कुछ नग्न तस्वीरें भेजी थी। बताया जा रहा है कि महिला सोशल मीडिया पर चालाकी से दोस्ती करती थी और नव युवकों को अपने काया के माया जाल में फंसाने की कोशिश करती थी। और तो और फिर नवयुवक को कार में बुलाकर उनके साथ शारीरिक संबंध भी बनाती। यह खुलासा तब हुआ जब एक लड़के के पिता ने उसके फोन में उसकी कुछ न्यूड तस्वीरें देखिए तब मामला सामने आया और अश्लील महिला टीचर के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया।

मामले की जांच कर रहे अधिकारियों ने केटीयूएल को बताया कि उन्होंने पाया कि जेनिफर ने एक 15 वर्षीय लड़के को नग्न तस्वीरें भेजने की पेशकश की थी और साथ ही उसके लिए नग्न तस्वीरें भी मांगी थीं।’ जारी किए गए हलफनामे के अनुसार, जेनिफर की कथित पीड़ितों ने उसके नग्न होने के बदले में अपनी तस्वीरें नहीं भेजीं, और इसके बजाय महिला के साथ सभी संपर्क बंद कर दिए, एक आधिकारिक बयान में, वैगनर काउंटी शेरिफ क्रिस इलियट ने कहा कि इस प्रकार के मामले हमेशा कठिन और निराशाजनक होते हैं।

क्रिस इलियट ने कहा कि हम एक ऐसी दुनिया में रहते हैं जहां हम अपने बच्चों को इन सब चीजों से बचाने की कोशिश करते हैं, जैसे ही मेरे जांचकर्ताओं ने इस मामले में गवाहों और पीड़ितों को उजागर करना शुरू किया, ऐसा लग रहा था कि जितना अधिक हमने जांच की, उतने अधिक पीड़ित हमें मिले।