मस्तूरी: एक और जहां जमीन दलाल क्षेत्र में सक्रिय होकर अवैध प्लाटिंग कराकर क्षेत्र में कई शासकीय भूमियों का वारा न्यारा कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर कुछ जनप्रतिनिधि क्षेत्रीय जमीन दलालों ने शासकीय कार्यालयों को भी नहीं बख्श रहे। पंचायत में पैसा हजम करने की ललक इतनी हो गई है कि पंचायत प्रतिनिधियों के द्वारा शासकीय कार्यालयों का भी मोलभाव कर बेच दिया जा रहा है।

ताजा मामला सामने आया है कि सीपत परीक्षेत्र के ग्राम पंचायत खमहरिया में बस स्टैंड के पास स्थित 20 वर्ष पहले पूर्व सरपंच विक्रम सिंह चौहान उपसरपंच राजाराम यादव के द्वारा प्रस्तावित कर बस स्टैंड के पास शासकीय जमीन जहां पर पोस्ट ऑफिस कार्यालय है उसे प्रस्तावित कर पोस्ट ऑफिस कार्यालय व पोस्ट ऑफिसर के रहने के लिए आवास संचालित करने के लिए दिया गया था  ।

उसी जगह को ग्राम पंचायत खमरिया के वर्तमान पंचायत प्रतिनिधियों और जमीन दलाल के  संरक्षण में दो लाख 80 हजार रुपए में लुथरा खमरिया निवासी अब्बास रहमान  के पास बेच दिया है। पोस्ट ऑफिसर के रहने के लिए आवास को बेचने की खबर जैसे ग्राम वासियों को हुआ ग्रामीणों में भारी आक्रोश देखने को मिल रही है। और पंचायत के ऐसे जनप्रतिनिधि जो पंचायत के ही आम जनों के लिए उपयोगिता साबित हो ऐसे कार्यालय को बेच खाए ऐसे लोगों पर भारी आक्रोशित नजर आ रहे हैं।

इनसेट में गांव की तस्वीर

जवाबदार पंचायत प्रतिनिधियों खिलाफ एसडीएम और कलेक्टर से शिकायत करने की बात सामने आई है। ग्रामीणों ने यह भी बताया है कि यह मामला उच्च अधिकारियों तक ना पहुंचे उससे पहले तत्काल उस जमीन पर बने पोस्ट ऑफिस कार्यालय और निवास को तोड़फोड़ कर नया बनाने के लिए आनन-फानन में जमीन के लेनदार अब्बास रहमान के द्वारा ईट रेती निर्माण सामग्री का समान उस जमीन के पास डंप करना प्रारंभ कर दिया गया है। अगर समय रहते जवाबदार अधिकारियों का नींद नहीं खुला तो डाकघर भी जमीन दलालों की भेंट चढ़ जाएगी।

वही इस संबंध में ग्राम पंचायत खमरिया के सरपंच गुलाब बाई कवर से जानकारी लिया गया तो उन्होंने अपने जवाबदारी से पल्ला झाड़ते हुए कहां की,वह कुछ दिनों से गांव से बाहर अपने रिश्तेदार के यहां गई हुई थी, कल ही गांव से वापस आई है,पोस्ट ऑफिस कार्यालय बिकने की जानकारी मिली है उसके बारे में जानकारी जुटा रही हूं करके अपने कार्यों से और जवाबदारी  से पल्ला झाड़ ली है ।

इस संबंध में सीपत उप तहसील कार्यालय के नयाब तहसीलदार नीलिमा अग्रवाल का कहना है कि मौके पर राजस्व विभाग के उस क्षेत्र के कर्मचारी पटवारी को भेजकर जांच करवाने की बात कही है गलत पाए जाने पर जवाबदार पंचायत प्रतिनिधियों पर करवाही करने की बात कही है।

मस्तूरी एसडीएम पंकज डाहीरे का कहना है कि इस संबंध में   मौके पर राजस्व विभाग के लोगों को भेजकर जांच करवाने की बात कही है दोषियों पर करवाई करने की बात एसडीएम पंकज डाहीरे के द्वारा कही गई है।

रिपोर्ट: बिलासपुर मस्तुरी से रघु यादव