खुलेआम असलहों की नुमाइश कर रहा “बालू माफिया”

by shubham

कौशाम्बी: केंद्र और प्रदेश सरकार ने लाइसेंस धारियों को चेतावनी जारी की है कि जिनके पास तीन शस्त्र लाइसेंस है वह लाइसेंस धारी अपने एक लाइसेंस को तुरंत निरस्त करा कर शस्त्र दुकान या पुलिस माल खाना में जमा कर दें लेकिन यहां तो ऐसे ऐसे माफिया मौजूद हैं जिनके पास सात असलहे मौजूद है। माफियाओं द्वारा खुलेआम इन असलहों का प्रदर्शन कर अपना जलवा बिखेरा जा रहा है। 

जनपद मुख्यालय में खुलेआम असलहो का प्रदर्शन कर माफियाओं द्वारा अपना जलवा बिखेरे जाने के मामले में प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है। एक सप्ताह पूर्व शासन प्रशासन का ध्यान समाचार पत्र के माध्यम से आकृष्ट कराते हुए यह लिखा गया था कि गैर प्रांत के सशस्त्र असलहा धारियों ने जनपद मुख्यालय में डेरा जमा रखा है लेकिन खबर के बाद भी प्रशासन सक्रिय नहीं हो सका है। माफिया खुलेआम जायज और नाजायज असलहो का प्रदर्शन कर जहां एक ओर अपना जलवा बिखेरने में लगे हैं वहीं दूसरी ओर वह समाज में भय और आतंक का माहौल पैदा कर रहे हैं।

विकास दुबे व उसके गुर्गों के शस्त्र लाइसेंस की 200 फाइलें हुई गायब, सहायक लिपिक पर दर्ज हुआ मुकदमा

मंझनपुर के जिस व्यक्ति के हाथ में एक साथ सात असलहे दिखाई पड़ रहे हैं वह जनपद मुख्यालय मंझनपुर का ही रहने वाला है और सूत्रों की माने तो वह बालू माफिया, जमीन माफिया के साथ-साथ तमाम अन्य जरायम के धंधों का का भी सप्लायर बताया जाता है। खुलेआम सात असलहो का प्रदर्शन करने वाले इस माफिया के विरुद्ध पूर्व से भी मंझनपुर कोतवाली में गंभीर धाराओं में मुकदमे दर्ज हैं। माफिया के पास तमाम असलहे मौजूद होने के चलते माफिया की गिरफ्तारी से पुलिस भय खाती है। माफिया के पास मौजूद यह असलहे उस तक कैसे पहुंचा यह एक जांच का विषय है और इन असलहों की जांच हुई तो कई लोगों का जेल जाना तय है।

रिपोर्ट: श्रीकांत यादव

Related Posts