मध्य प्रदेश(देवास): मध्यप्रदेश के देवास जिले में पिछले दिनों एक खबर आई थी. जिसमें SDM के घर में चोर चोरी के करने घुसे थे. उन्हें ज्यादा कुछ ना मिलने पर गुस्सा आ गया. और उन्होंने SDM के नाम एक पत्र लिख दिया. पत्र में चोरों ने लिखा था कि “जब पैसे नहीं थे तो लॉक नहीं करना था-कलेक्टर”. यह चिट्ठी सोशल मीडिया पर वायरल हो गई और लोग इसे शेयर करने लगे.

ये चोर मंगलवार शाम को देवास जिले से डिप्टी कलेक्टर त्रिलोचन गौड के सरकारी आवास में चोरी करने घुसे थे. जिसे अब पुलिस ने पकड़ लिया है. पकड़े गए चोरों से पूछताछ में उन्होंने बताया कि कि उन्हें नहीं पता था कि यह डिप्टी कलेक्टर का घर है. हमने तो कलेक्टर पड़ा और यह सोचा तगड़ा माल मिलेगा. भीतर पहुंचा तो मायूसी हाथ लगी. गुस्से में ऐसा कर दिया. चारों में से एक जिसका नाम प्रकाश है वह हिस्ट्रीशीटर है. उसके नाम कई केस दर्ज है. शुभम नाम के चोर ने खत लिखा था।

इन चोरों के नाम कुंदन पुत्र नरेंद्र ठाकुर निवासी बिहारीगंज और शुभम उर्फ छोटू पुत्र राधेश्याम जयसवाल निवासी बिहारीगंज है. इन चोरों ने बताया कि उनका एक और साथी साजिश में शामिल था. उन्होंने उसका नाम प्रकाश उर्फ गंजा बताया. चोरों ने बताया कि प्रकाश ही चोरी के लिए अंतर गया था. चोरों के पास से ₹4000 तथा एक स्टील का डब्बा बरामद किया गया है. डिप्टी कलेक्टर अभी खातेगांव में एसडीएम के पद पर तैनात है. उनका शहर के सिविल लाइन में सरकारी आवास भी है. घर में 15 दिनों से कोई नहीं था.सुन सान घर देख कर के चोर चोरी के उद्देश्य से अंदर घुसे थे. कुछ नहीं मिलने पर नाराज चोरों ने SDM के नाम पत्र लिख दिया था।