आजकल सोशल मीडिया, पॉलिटिशियन, एक्टर,स्टार्स, बिजनेसमैन  के प्रमोशन में सबसे बड़ा  हाथ  पीआरओ का होता है, जिसे हम डिजिटल मार्केटर या सोशल मीडिया प्रमोटर या पी०आर०ओ० कहते हैं। इसमे एक नाम है- Muzammil Mumtaz, यह वह नाम है जिसने बेहद कम उम्र में ही डिजिटल मार्केटिंग में अपना कद बढ़ा लिया.

मुज़म्मिल मुमताज़ (Muzammil Mumtaz) जो 6 साल दिल्ली में मिडिया  में काम करने के बाद दिसंबर वर्ष 2019 में मुम्बई आये, और यहाँ आते ही उनके काम को देखते हुए कई बड़े-बड़े कंपनी का डिजिटल प्रमोशन के काम भी उन्हें मिलना शुरू हो गए। बिहार के नालंदा जिला से संबंध रखने वाले Muzammil Mumtaz का कहना   मुज़म्मिल आगे कहते हैं, “ट्रडिशनल पीआर में आपको अपने कंटेंट आउटपुट के साथ ज्यादा सजग और चतुर होना पड़ता है, ताकि आपका कंटेंट पब्लिश होने में कोई दिक्कत न हो।

Also Read: ट्रेडिशनल अवतार में नज़र आईं धक-धक गर्ल

मैं बता दूं तो इसमें क्लाइंट सेटिस्फेक्शन के लिए पब्लिश्ड मैटर का बहुत महत्व होता है। जी हाँ, एक तरफ जहां हम कह सकते हैं कि ट्रेडिशनल पीआर के अंतर्गत प्रिंटेड मैटेरियल अधिक प्रत्यक्ष होता है। वहीं, दूसरी ओर डिजिटल पीआर आमतौर पर रिस्पॉन्स और इंगेजमेंट के लिए अधिक गुंजाइश पैदा करता है। साथ ही सोशल मीडिया साइट्स पर वेबसाइट ब्लॉग और पोस्ट दो अच्छे उदाहरण के तौर पर देखे जाते हैं। इसके माध्यम से टारगेट ऑडियंस के साथ बातचीत के स्तर में वृद्धि की जा सकती है।

अच्छी तरह से किया गया डिजिटल पीआर आपके व्यवसाय के पूरे ऑनलाइन प्रोफाइल की परफॉरमेंस में बेहतरीन सुधार लाता है। एसईओ और एडवांस सर्च रैंकिंग दो ऐसे क्षेत्र हैं, जिनमें विशेष रूप से ट्रेडिशनल पीआर की मदद नहीं ली जा सकती है। डिजिटल पीआर के अंतर्गत सोशल मीडिया के माध्यम से सभी इंगेजमेंट के अवसरों का लाभ उठाया जा सकता है।

संक्षेप में कहें तो आप डिजिटल पीआर के साथ ट्रेडिशनल पीआर की तुलना में बहुत अधिक कार्य कर सकते हैं। एक तरफ जहां ट्रेडिशनल पीआर सामान्य प्रेस, मुद्रित प्रकाशन, टीवी और रेडियो जैसे चैनलों पर ध्यान केंद्रित करता है। वहीं, दूसरी तरफ डिजिटल पीआर में अन्य चैनलों की एक भीड़ उपलब्ध होती है। इनमें वेबसाइट, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, ब्लॉग, प्रभावित अभियान, ऑनलाइन समाचार और वीडियो पोर्टल शामिल हैं। डिजिटल पीआर को सही ढंग से करने के लिए एसईओ सॉफ्टवेयर, मार्केटिंग ऑटोमेशन सर्विसेज, वेबसाइट एनालिसिस (गूगल एनालिटिक्स सहित), सोशल मीडिया सॉल्यूशंस और कई अन्य टूल्स का इस्तेमाल किया जाता है।”