कोरोना वायरस चीन से आया। चीनी ऐप tiktok के वीडिओज़ ने इस महामारी के बीच भारत में मुसलमानों को भडकाया।इनमें कई वीडियो पाकिस्तान में भी बने हो सकते हैं।पिछले साल अप्रैल में मद्रास हाईकोर्ट ने पोर्नोग्राफी को बढ़ावा देने के आरोप में इस ऐप पर बैन लगा दिया था, लेकिन बाद में tiktok के झांसे में आकर कुछ ही दिनों में बैन हटा भी लिया था।

इस बार मामला पोर्नोग्राफी फैलाने से भी ज़्यादा संगीन है-

1. Tiktok वीडिओज़ भारत में मुसलमानों को गुमराह कर रहे हैं।

2. Tiktok वीडिओज़ भारत में अफवाहें फैलाकर साम्प्रदायिक सद्भाव बिगाड़ रहे हैं।

3. Tiktok वीडिओज़ भारत में कोरोना महामारी को फैलाने का हथियार बने हैं।

4. Tiktok वीडिओज़ के कारण भारत में कोरोना की चपेट में आकर लाखों लोगों की जान पर खतरा मंडरा रहा है।

5. Tiktok वीडिओज़ द्वारा फैलाई गई गलत बातों और अफ़वाहों के कारण भारत में कानून व्यवस्था का गम्भीर संकट पैदा हो गया है।

यहां तक कि एक समुदाय द्वारा डॉक्टरों और पुलिस कर्मियों पर हमले भी हो रहे हैं।अगर मेरी सरकार होती, तो इस दुष्ट चीनी कम्पनी की कोई दलील नहीं सुनता और एक पल भी इसे भारत में काम नहीं करने देता।सोच रहा हूं कि क्या भारत या भारत सरकार ने चीन का कुछ कर्जा खाया है कि इस पापी देश के लिए अपने नागरिकों को तबाह होने दे रही है? Tiktok और UC news और कुछ नहीं, बल्कि भारत के खिलाफ चीनी सरकार के हथियार हैं। मोदी सरकार इस बात को जितनी जल्दी समझकर इन्हें पूर्ण रूप से प्रतिबंधित कर दे, उतना बेहतर। शुक्रिया।