तृणमूल कांग्रेस के नेता एवं पूर्व रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी भाजपा में हुए शामिल

नई दिल्ली- तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व रेल मंत्री रहे दिनेश त्रिवेदी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए हैं।

शनिवार को यहाँ दिनेश त्रिवेदी ने भाजपा के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता हासिल की।

दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि “आज वह स्वर्णिम पल है जिसका मुझे इंतजार था। आज हम सार्वजनिक जीवन में इसलिए हैं क्योंकि जनता सर्वोपरि होती है। एक राजनीतिक पार्टी ऐसी होती है जिसमें परिवार सर्वोपरी होता है लेकिन आज मैं सचमुच ऐसे दल में शामिल हुआ हूँ जिसमें जनता परिवार होती है। भाजपा दल का मकसद है जनता की सेवा।”

ये भी पढ़ें- बंगाल में सियासत गर्म, शुभेंदु अधिकारी BJP में शामिल

उन्होंने कहा कि “मैं इससे पहले जिस पार्टी में था वहां पर सिर्फ एक परिवार की सेवा होती है, जनता की नहीं।”

दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि,”आज पश्चिम बंगाल में ऐसा माहौल है कि वहां की जनता मुझसे फोन कर यह कहती थी कि आप इस पार्टी में क्या कर रहे हैं। आज यह हालत हो गई है कि एक स्कूल बनाने तक के लिए वहाँ की सत्ताधारी पार्टी को चंदा देना पड़ रहा है।”

उन्होंने कहा कि, “पश्चिम बंगाल में लगातार हिंसा बढ़ रही है। वहां पर हिंसा और भ्रष्टाचार से जनता परेशान है ऐसे में बंगाल की जनता खुश है कि वहां पर असली परिवर्तन होने जा रहा है और भाजपा सरकार बनाने जा रही है।”

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि, “मुझे खुशी हो रही है कि हम दिनेश त्रिवेदी को भाजपा में शामिल कर रहे हैं। दिनेश त्रिवेदी का राजनीति में लंबा अनुभव रहा है। उन्होंने सत्ता को दरकिनार करते हुए राजनीतिक जीवन गुजारा है। बहते हुए विचार के साथ भाजपा में अपने आप को समावेश किया है। ”

ये भी पढ़ें- आखिरकार सपा में शामिल हो गए रमेश व मसूद खान

उन्होंने कहा कि , “दिनेश त्रिवेदी जैसे व्यक्तित्व गलत दल में थे और ये बात वह खुद महसूस करते थे। उन्होंने राजनीति में इस वजह से बड़ी क़ीमत चुकाई है। अब सही व्यक्ति सही पार्टी में है, जहां पर उनका भाजपा , नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में सही उपयोग कर पाएगी।”

दिनेश त्रिवेदी के भाजपा की सदस्यता लेने के इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल और धर्मेन्द्र प्रधान भी मौजूद थे।

उल्लेखनीय है कि दिनेश त्रिवेदी ने 12 फरवरी को तृणमूल कांग्रेस और राज्य सभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। वह 2011 से 2012 तक रेल मंत्री रहे। वह दो बार लोकसभा और तीन बार राज्सभा सदस्य रहे हैं।

इन्पुट- यूनीवार्ता