बिलासपुर:आम तौर पर सांपों को देखकर किसी को डर लगता है और  कोई रोमांचित होता है। लेकिन बिलासपुर  में एक लकड़ी ऐसी हिअ है। जिन्होंने अपना जीवन बेज़ुबानों व सरिसृप जानवरों के  लिए समर्पित कर दिया है । यूं कहें कि सांप और इंसान के रिश्ते में उसकी जिंदगी का मकसद इंसान से सांपों को और सांपों से इंसानों को बचाना है।

जी हां हम बात कर रहे है बिलासपुर के सरकंडा में  रहने वाले अजिता पांडेय जी जो  पिछले कई सालों से यह काम कर रही  हैं। सबसे खास बात ये है कि अजिता जिस घर से सांप पकड़ती  हैं । और उसको सुरक्षित स्थान या उनके पर्यावरण में छोड़ देती है जिससे साँपो का जीवन बचाया जा सके। अजिता  की सांपों को लेकर इसी दीवानगी की वजह से लोग अजिता को  ‘स्नैक वीमेन ‘ के  भी कहते है।

बिलासपुर की अजिता से जब हमने बात किया तो उन्होंने बताया कि ये बेज़ुबानों की सेवा करने का कार्य उन्होंने अपनी माँ और पिताजी से सीखा बहुत लोग  इस काम को ना करने के लिए भी अजिता को कहते है  लेकिन उनका बेज़ुबानों के प्रति जुनून देख कर लोग अजिता का साथ देने लगे है ।

बिना किसी डर पकड़ लेते है विषैले सांप

अजिता जी मार्मिक चेतना वेलफेयर सोसाइटी एवं प्रतिक्षा स्नेक सेल वाइल्ड लाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी के साथ मिलकर काम कर रही है सैकड़ों विषैले साँप पकड़ चुकी हैं और लॉक डाउन में अभी तक अजिता ने 100 से अधिक साँपो को पकड़ कर उनको सुरक्षित स्थान में छोड़ा है।
इस कार्य मे उनका परिवार भी अजिता का साथ देते हैं ।

अजिता कहती जी ने कुछ शब्द कहे है जो इस प्रकार से है

इस वसुंधरा पर को वीर आ जाए,
कोई ईश्वर  या पीर आ जाए
बहे खून निर्दोष मूक पशुओं का
उससे पहले इस धरा पर कोई महावीर आ जाए

इसके साथ ही साथ हम आपको बताते चले साँपो के आलवा अजिता को बेज़ुबानों में रोड पर घूमने वाले स्वान व गाय से भी बहुत प्रेम है ।कोरोना के कारणों से जब से लॉक डाउन लगा है । तब से अजिता अपने कार्य के साथ साथ बेज़ुबानों को खाना भी खिला रही है ।

आपको ये बताते चले कि अजिता पेशे से एक नर्स है अपना आधा से ज्यादा समय वो हॉस्पिटल में मरीजो की सेवा में लगती है । और बाकी बचा समय बेज़ुबानों की सेवा में।

रात को अजिता जिस स्थान से खाना लेकर जाती है उस स्थान पर स्वान की भीड़ लग जाती है अथार्थ स्वान व गाय  भी अजिता को अच्छे से पहचान जाते है और उसको घेर लेते है । बेज़ुबानों को खाना खिलाने के कार्य अजिता रात 8 से 11 करती है और बिलासपुर के वो क्षेत्र जहाँ स्वान व गाय की संख्या ज्यादा है वहाँ भोजन कराती है ।

रिपोर्ट:प्रकाश झा