आगरा विश्वविद्यालय की परीक्षाएं ओएमआर शीट पर ही होंगी और विद्यार्थियों से कुल 100 प्रश्न पूछे जाएंगे। डेढ़ घंटे के समय में विद्यार्थियों को 100 में से सिर्फ 50 प्रश्नों का जवाब देना होगा। महामारी काल में प्रथम वर्ष के सभी विद्यार्थी प्रमोट होंगे और द्वितीय व तृतीय वर्ष के विद्यार्थियों की परीक्षाएं कराई जाएंगी। यह निर्णय गुरुवार को डॉ बीआर अंबेडकर विश्वविद्यालय की परीक्षा समिति ने कुलपति की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिए।

यूनिवर्सिटी की पीआरओ डॉ सुनीता गुप्ता ने बताया कि कुलपति प्रो अशोक मित्तल की अध्यक्षता में यह बैठक हुई। जिसमें विभिन्न निर्णय लिए गए। इसमें वार्षिक प्रणाली के पाठ्यक्रमों में स्नातक द्वितीय और तृतीय वर्ष और स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की परीक्षाएं कराने का निर्णय लिया गया है। स्नातक प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों को प्रोन्नत किया जाएगा और वर्ष 2022 में द्वितीय वर्ष की परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर उनके प्रथम वर्ष के अंक निर्धारित किए जाएंगे। इसी प्रकार परा स्नातक प्रथम वर्ष के छात्रों को अंतिम वर्ष की परीक्षा के आधार पर अगले साल अंक दिए जाएंगे। समस्त परीक्षाएं ओएमआर पर आधारित होंगी और डेढ़ घंटे की होगी। कुल 100 वस्तुनिष्ठ प्रश्नों में से विद्यार्थियों को 50 प्रश्नों के उत्तर देने होंगे। जुलाई के तीसरे सप्ताह से वार्षिक परीक्षाएं प्रारंभ होंगी जो 15 अगस्त तक चलेंगी और 31 अगस्त तक परिणाम घोषित किया जाएगा। प्रायोगिक परीक्षा और मौखिकी को मिलाकर केवल मौखिकी संपन्न कराई जाएगी

रिपोर्ट-सिद्धार्थ तिवारी

फ़िरोज़ाबाद