बांदा: उत्तर प्रदेश सरकार के ग्राम्य विकास एवं समग्र ग्राम्य विकास मंत्री राजेन्द्र प्रताप सिंह (मोती सिंह) बुधवार को सर्किट हाउस पंहुच कर विभागीय अधिकारियों के साथ योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। समीक्षा में अधिकारियों को निर्देश दिये कि आवास‚ मनरेगा‚ शौचालय आदि के कार्यों में तेजी लाए। इसके बाद उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के द्वारा प्राथमिक विद्यालय मवई बुजुर्ग में आयोजित कार्यक्रम में सिरकत की।

किसान दिवस के अवसर पर फार्म मशीनरी बैंक योजनान्तर्गत साक्षी महिला ग्राम संगठन डिंगवाही को ट्रेक्टर की चाभी दी गयी। ग्रामीण आजीविका एक्सप्रेस योजनान्तर्गत मरौली ग्राम के सरस्वती स्वयं सहायता समूह की शशी दीदी को टाटा मैजिक की चाभी दी गयी। मंत्री जी ने समूह की दीदियों को आजीविका से जुड़कर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हुये अपनी आर्थिक स्थिति को सुद्रढ़ करें। स्वयं सहायता समूह से जुड़ी दीदियों को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के सुमन रामदुलारी मनीषा सेमिया सुनिता सम्पत शिवलली राजकुमारी ब्रजरजिनया सहित अन्य ग्रामीणों को गोल्डन कार्ड वितरण किये।

मंत्री जी ने दीदियों को सम्बोधित करते हुये कहा कि प्रधानमंत्री के द्वारा गरीबों के लिए यह महत्वपूर्ण योजना है। इस कार्ड के जरिये 5 लाख तक का निःशुल्क गम्भीर बीमारियों में उपचार कराया जा सकता है। कैश क्रेडिट लिमिट अन्तर्गत् 101 समूहों को 01 करोड़ 01 लाख रूपये की धनराशि का डेमो चेक दीदियों को दिया गया। सर्वाधिक गोल्डेन कार्ड बनवाने में बीएमएमयू टीम को सहायोग करने के लिए मंत्री जी द्वारा ग्राम प्रधान गिरजा देवी को प्रमाण पत्र दिया गया। एनआरएलएम समूहों के कैश क्रेडिट लिमिट बनाने हेतु एलडीएम को प्रमाण पत्र दिया।

मंत्री जी ने प्रदेश में अच्छा कार्य करने के लिए रमेश चन्द्र पाण्डेय संयुक्त विकास अधिकारी हरिश्चन्द्र वर्मा मुख्य विकास अधिकारी एवं कृष्ण करूणाकर पाण्डेय डिप्टी कमिश्नर एनआरएलएम की सराहना की। मंत्री जी को एनआरएलएम टीम द्वारा शाल एवं स्मृति चिन्ह भेंट किया।