हाथरस: आधी रात पीड़िता का अंतिम संस्कार, गिड़गड़ाते रहे परिजन

by shubham

हाथरस में दुष्कर्म का शिकार हुई पीड़िता का पुलिस ने आधी रात 2 बजे अंतिम संस्कार कर दिया | पीड़िता के परिजन पुलिस से आखिरी बार अपनी बेटी को देखने की गुहार लगाते रहे लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई | पीड़िता की माँ ने कुछ रस्मों का भी हवाला दिया लेकिन पुलिस इतनी जल्दी में थी कि आनन फानन में रात के 2 बजे ही अंतिम संस्कार कर दिया गया |

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में 15 दिनों तक मौत से संघर्ष करने के बाद पीड़िता ने कल दम तोड़ दिया था | जिसके बाद उसके शव को रात लगभग 12 बजे वापस हाथरस लाया गया | शव लेकर एम्बुलेंस जैसे ही गाँव पहुंची लोगों ने विरोध शुरू कर दिया, जिसके बाद गाँव के लोगों की पुलिस से नोक झोंक भी हुई | पीड़िता के मां-बाप अपनी बेटी की सूरत आखिरी बार देखने के लिए पुलिस से गुहार लगाते रहे लेकिन पुलिस वालों ने एक बात भी न सुनते हुए खुद ही चिता में आग लगा दी | जिस वक़्त आग लगाई गई, कोई भी परिजन वहां मौजूद नहीं था |

इसपर लोगों का गुस्सा फुट पड़ा है। कई दिग्गज नेताओ ने इसकी कड़ी निन्दा की है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपना गुस्सा जाहिर करते हुए ट्वीट कर कहा, “हाथरस की पीड़िता का पहले कुछ वहशियों ने बलात्कार किया और कल पूरे सिस्टम ने बलात्कार किया। पूरा प्रकरण बेहद पीड़ादायी है।”

गुजरात से राज्य सभा सांसद और कांग्रेस पार्टी के नेता लिखते हैं कि यूपी सरकार एक असंवेदनशील और अमानवीय शासन बन गई है।
यह परिवार का अधिकार है कि वह अपनी बेटी का अंतिम संस्कार करें।
उनके साथ ऐसा क्यों व्यवहार किया जा रहा है जैसे कि वे आतंकवादी हैं?

कांग्रेस नेता उदित राज ने ट्वीट कर योगी सरकार पर निशाना साधा है |

इस पर हाथरस पुलिस ने अपनी सफाई देते हुए ट्वीट कर कहा कि यह असत्य खबर फैलायी जा रही है कि “थाना चन्दपा क्षेत्रान्तर्गत दुर्भाग्यपूर्ण घटित घटना में मृतिका के शव का अन्तिम संस्कार बिना परिजनों की अनुमति के पुलिस ने जबरन रात में करा दिया हैं “। हाथरस पुलिस इस असत्य एवं भ्रामक खबर का खंडन करती है।

पर पीड़िता के पिता का कहना है कि उन्हें बंद कर दिया गया था और बेटी के शव को देखने नहीं दिया गया था। वहीं पीड़िता के भाई का कहना है कि वह चाहते थे कि सुबह अंतिम संस्कार होता ताकि परिवार के और लोग भी आ जाएं।

इस अमानवीय व्यवहार पर सरकार की चुप्पी से लोगों में आक्रोश का माहौल है। देश में कई जगह न्याय की मांग तेज हो गई है।

ये पूरा मामला हाथरस जिले के एक गाँव का है | जहां 14 सितंबर को 19 साल की लड़की के साथ दुष्कर्म हुआ था | आरोप गाँव के ही 4 दबंग युवकों पर लगाया गया है | पहले पीड़िता को अलीगढ में भर्ती कराया गया था, जहां से बाद में उसे दिल्ली के सफदरजंग रेफर कर दिया गया था | जहाँ कल उसकी मौत हो गई |

रिपोर्ट –
मानसी शर्मा

Related Posts