संभल के कोतवाली चंदौसी के निजी अस्पताल में डिलीवरी के लिए पहुंची महिला डिलीवरी के दौरान सड़क पर नवजात बच्चे को दिया जन्म

बताया जाता है पेसे से एक पत्रकार अपनी गर्भवती पत्नी को लेकर शाम 4:00 बजे डिलीवरी हेतु चंदौसी में डॉ मोनिका तथा डॉ शरद के नर्सिंग होम में भर्ती कराया और डॉक्टर मोनिका के कहने पर मैंने हॉस्पिटल के स्टाफ को ₹5000 अपनी बीवी के डिलीवरी हेतु एडवांस जमा कर दिए थे और 7000 देने को कहा जोकि नॉर्मल डिलीवरी के लिए भी अच्छी खासी रकम ली जाती है।

उन्होंने बताया कि हम बाहर निकलकर आए थे तभी एक महिला जो कि अस्पताल में चल रहे इलाज के दौरान सड़क पर बच्चे को जन्म दिया नर्सिंग होम की यह लापरवाही सामने आई प्रार्थी पत्रकार ने उसकी वीडियो बनाने लगे तो कर्मचारियों द्वारा डॉक्टर शरद ने सभी स्टाफ को बुलाकर कहने लगे कि तूने हमारे हॉस्पिटल की वीडियो कैसे बनाई और जिस मोबाइल से वीडियो बन रही थी उसको छीन कर डॉक्टर विनय मोबाइल जमीन से दे मारा और मोबाइल तोड़ दिया और क्या हम तेरी पत्नी की डिलीवरी नहीं करेंगे उस वक्त डॉ शरद रवि नशे में धुत था और अपना रिवाल्वर निकालकर तान दिया और मुझसे मारपीट करने लगे धमकी देकर मुझे हॉस्पिटल से बाहर निकाल दिया और कहा तेरी डिलीवरी कोई भी अस्पताल में नहीं करेगा मेरी पत्नी दर्द से तड़प रही थी उसी रात्रि के समय अपनी पत्नी को लेकर सरकारी अस्पताल पहुंचा और भर्ती कराया यह मामला चंदौसी के कृष्णतार नर्सिंग का बताया गया है।

रिपोर्ट : सीताराम कुशवाहा