इटावा : एक तरफ उत्तर प्रदेश की सरकार हर थाने में महिला हेल्प डेस्क खोल रही है। और दूसरी तरफ प्रदेश में महिलाओं का उत्पीड़न कम नहीं हो रहा। शर्म आती है जब पता चलता है कि हमारी प्रदेश में रहने वाली बेटियां सुरक्षित नहीं है। और तो औरजब उस में महिलाओं की ही सुनवाई नहीं होती। फिर तो पैसे को व्यर्थ करना ही है।

जिस घटना के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। वह घटना उत्तर प्रदेश के इटावा जनपद की है। जहां पर एक 17 वर्षीय लड़की नाबालिक ने आहत होकर इतना बड़ा कदम उठाया कि सुनकर आप हैरान हो जाएंगे। काश इस लड़की की मदद महिला हेल्प डेस्क से हो जाती तो आज वह इस दुनिया में होती। मामला इटावा के बलरई थाना क्षेत्र का है। पता चला है कि कल नाबालिक परिजनों के साथ बलरई थाने में अपनी शिकायत दर्ज करवाने गई थी। जो की शिकायत थी छेड़छाड़ की लेकिन भाई उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था भी एक बार में कहां सुनने वाली। थाने में तहरीर तो ले ली गई लेकिन पुलिस ने उस पर कार्रवाई नहीं की इसी से आहत होकर युवती ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी।मृतिका के भाई ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है।


थाना प्रभारी ने मृतका के परिजनों को क्या दिया था “ज्ञान”

17 वर्षीय नाबालिक लड़की जिसने ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी उसके परिजनों ने बताया कि थाना प्रभारी ने तहरीर लेने के बाद यह कहा था कि मामला दर्ज करने पर परिवार की बदनामी होगी और परिजनों का यह भी कहना है की थाना प्रभारी ने उनसे गाली गलौच करके भी बात की। अब एक तरफ इस प्रकरण में सवाल उठता है उत्तर प्रदेश के प्रशासन पर जो कि कहता है कि मित्र पुलिस आखिर आज यह पुलिस मित्र होती तो इस दुनिया में 17 वर्षीय नाबालिक यह कदम नहीं उठाती।


आत्महत्या के संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक इटावा अपर्णा गौतम (अतिरिक्त प्रभार) ने बताया कि 20 तारीख को मृतक युवती के परिजनों द्वारा थाने में छेड़छाड़ से सम्बंधित तहरीर दी गई थी। जिसके बाद पुलिस द्वारा आरोपी के घर दबिश दी गई थी। लेकिन आरोपी मौके से फरार हो गया था। एसएसपी अपर्णा गौतम ने बताया कि दोनों पक्षो के बीच समझौता होने की बात सामने आई थी। उक्त समझौता नामा में लड़की पक्ष और लड़का पक्ष के परिजनों के हस्ताक्षर थे। साथ ही गाँव के लोगो के भी हस्ताक्षर थे। उन्होंने बताया कि आज पीड़ित लड़की द्वारा आत्महत्या कर ली गई। उन्होंने बताया कि पीड़ित पक्ष की तरफ से थाना पुलिस द्वारा आरोपी पर कार्यवाही न करने की शिकायत की गई है। जिसकी जांच एस पी सिटी को सौप दी गई है जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्यवाही की जाएगी। एसएसपी ने बताया कि उनके द्वारा पीड़ित परिजनों को आश्वस्त किया गया है कि मामले के दोषियों पर सख्त कार्यवाही की जाएगी।

रिपोर्ट :- शिवम दुबे