नेपाल आखिर क्यों कर रहा है सौतेला व्यवहार भारतीय नागरिकों के साथ

by News Desk
98 views

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए नेपाल सरकार ने जमुनहा सीमा को सील कर रखा है, चार महीने से भारत नेपाल की सभी सीमाएं सील है केवल भारतीय माल वाहक वाहन चालक और नेपाली नागरिकों को नेपाल में प्रवेश की अनुमति मिल रही है। नेपाल सरकार ने नेपाल के महानगरों में लॉकडाउन में ढील देने के बाद बांके जिले के नेपालगंज में बाजारों को गुलजार होते देखा जा है ।
वही अब भारत में काम करने वाले नेपाली कामगार प्रतिदिन हजारों की संख्या में भारतीय सीमा में प्रवेश करते हुए देखे जा रहे हैं ।

जिन्हें भारतीय सीमा में प्रवेश करने के लिए किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है ।
इसी तरह नेपाली सीमा जमुनहा में भारतीय आईडी दिखाने के बाद भी भारतीयों को आसानी से नेपाल में प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। भारतीय क्षेत्र के व्यापारियों का कहना है कि हम व्यापारियों का नेपाल में बहुत सारा पेमेंट फंसा हुआ है जिनको वसूलने के लिए नेपाल जाना ही पड़ेगा और बिना जाए हुए कोई भी दुकानदार पैसा नहीं देने वाला

रुपईडीहा के रहने वाले लोगों ने बताया कि हम सभी की रिश्तेदारी नेपालगंज में है और बॉर्डर सील होने के बाद से हम लोग अपने रिश्तेदारों से नहीं मिल पाए हैं और जब भी नेपाल जाने की कोशिश करते हैं तो जमुनहा में तैनात सुरक्षाकर्मी नेपाल सीमा में प्रवेश नहीं करने देते हैं और वापस भेज देते हैं ।

बहुतायत में देखा गया है कि सीमा पर रहने वाले दोनों देशों के लोगो का रोटी बेटी का सम्बन्ध है और एक दूसरे के देश में आना जाना लगा रहता है जहां नेपाल सरकार ने नेपाल के रहने वाले लोगों के लिए नेपाल में लॉकडाउन खत्म करने के साथ में लोगों को छूट दे रखी है वही भारत के लोग जो नेपाल में काम करते हैं भारतीयों को नेपाल में प्रवेश के लिए समस्याओं का सामना करना पड़ता है जिसकी वजह से लॉकडाउन के समय से अभी तक बहुत सारे भारतीयों की दुकान बंद पड़ी है और किराया चढ़ रहा है ।

जबकि नेपाली कामगारों को भारत में प्रवेश करने के लिए किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है लेकिन जब भी सीमा पर रहने वाले भारतीय को नेपाल में प्रवेश करने के लिए अनेकों समस्या का सामना करना पड़ रहा है और अगर जमुनहा पुलिस कर्मियों द्वारा भारतीयों को नेपाल में प्रवेश मिल भी गया तो रास्ते में लगे सुरक्षा कर्मी भारतीयों को रोक कर परेशान करते हुए होम क्वारेंटीन की बात करते हुए रोक देते है ।

रिपोर्ट : रईस अहमद

Related Posts