सिरोही-राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जयपुर के तत्त्वावधान में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सिरोही के अध्यक्ष श्री विक्रान्त गुप्ता के निर्देशानुसार ‘‘बाल विवाह को कहे ना’’ विषय पर एक ऑनलाईन वर्कशाॅप का आयोजन किया गया।
इस आनलाइन कार्यशाला में प्रशासनिक अधिकारीगण एवं कर्मचारीगण, सिरोही जिले के सभी ग्राम पंचायतो के सरपंच, ग्राम विकास अधिकारी, विद्यालयो के शिक्षकगण एवं छात्र-छात्राओ, आंगनवाडी कार्यकर्ताओ, आशा सहयोगीनियों, एसएचओ व पुलिसकर्मियो, एनजीओ के सदस्यगण, सभी पैनल अधिवक्तागण, सभी पैरा लीगल वाॅलेन्टीयर्स इत्यादि को बतौर प्रतिभागी आमंत्रित किया गया। करीब 250 प्रतिभागियों की उपस्थिति में कार्यशाला का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया।
वर्कशाॅप के अन्तर्गत प्राधिकरण के सचिव डाॅ. सूर्यप्रकाश पारीक द्वारा सभी प्रतिभागीगण को कार्यक्रम की रूपरेखा से अवगत कराया तथा बाल विवाह रोकथाम अभियान के उद्देश्य की जानकारी दी। कार्यशाला में बतौर वक्ता सर्वप्रथम अंकिता राजपुरोहित, सहायक निदेशक महिला अधिकारिता विभाग सिरेाही द्वारा ‘‘बाल विवाह एक अभिशाप – बाल विवाह का समाज पर दुष्प्रभाव’’ विषय पर जानकारी दी गई जिसके उपरान्त राजेन्द्र पुरोहित, सहायक निदेशक, जिला बाल संरक्षण ईकाई, सिरेाही द्वारा राज्य सरकार द्वारा बालिकाओं के कल्याण के लिए संचालित योजनाओं की जानकारी दी गई उसके बाद श्रीमती शशिकला मरडिया, सदस्य बाल कल्याण समिति, सिरोही द्वारा ‘‘बाल विवाह का बालिका जीवन पर पड़ने वाला दुष्प्रभाव’’ विषय पर जानकारी दी गई उनके बाद बाल कल्याण समिति सिरोही की अध्यक्षा सुश्री रतन बाफना द्वारा ‘‘बालिकाओ के अधिकार’’ विषय पर जानकारी दी गई। इनके बाद ‘‘बाल विवाह एक कानूनी अपराध एवं इसके संबंध में विधिक प्रावधान’’ विषय पर जानकारी अनिता रानी, वृत्त निरीक्षक, पुलिस थाना कोतवाली सिरोही द्वारा गई, इनके उपरान्त नीरज कुमारी, तहसीलदार सिरोही द्वारा ‘‘बाल विवाह की सूचना कहाँ व कैसे दी जाए’’ विषय पर जानकारी दी गइ।
कार्यक्रम के अंत में जिला न्यायाधीश एवं प्राधिकरण के अध्यक्ष विक्रान्त गुप्ता द्वारा राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार चलाए जा रहे ‘‘बाल विवाह को कहे ना’’ अभियान के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई। बाल विवाह रोकथाम की शपथ आनलाईन उपस्थित सभी प्रतिभागीगण तथा कार्यशाला स्थल पर उपस्थित अधिकारीगण को दिलाई गई जिसके बाद सभी अधिकारीगण द्वारा ‘‘बाल विवाह को कहे ना’’ अभियान का पोस्टर जारी किया गया। गुप्ता ने सभी आमजन से अपील की है कि वे अपने आस पडोस में बाल विवाह होने की जानकारी प्राप्त होने पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, सिरोही के हेल्पलाईन नंबर 8306002138 पर सूचना देवें। इसके अतिरिक्त जिला मुख्यालय पर सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यालय में तथा तालुका स्तर पर संबंधित अध्यक्ष, तालुका विधिक सेवा समिति (न्यायालय परिसर) में व्यक्तिशः भी सूचना दे सकते है। राज्य स्तर पर इस संबंध में हेल्पलाइन नंबर 15100 या 9828900900 पर भी सूचना दी जा सकती है। सूचना देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जावेगी।

रिपोर्ट हेमन्त अग्रवाल राजस्थान ब्यूरो चीफ