लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार को औरैया और इटावा जिले में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। योगी ने रविवार को प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति की समीक्षा की और राहत एवं बचाव कार्य तेजी से संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा है कि बाढ़ पीड़ितों को समय पर राहत सामग्री उपलब्ध कराते हुए उनकी हर सम्भव मदद की जाए। उन्होंने अधिकारियों को अपने-अपने जिलों में बाढ़ कण्ट्रोल रूम संचालित करने, बाढ़ की दृष्टि से संवेदनशील स्थलों की मॉनीटरिंग के साथ-साथ नियमित पेट्रोलिंग करने के भी निर्देश दिए।

उन्होने कहा कि कल वे औरैया तथा इटावा के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे तथा जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक कर इन जिलों में संचालित राहत एवं बचाव कार्यों की मौके पर समीक्षा भी करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बाढ़ प्रभावित और बाढ़ के दृष्टिगत संवेदनशील स्थलों को चिन्ह्ति करते हुए आवश्यकतानुसार राहत सामग्री के पैकेट तैयार कर वितरित किए जाएं। उन्होंने बाढ़ प्रभावित लोगों को कम्युनिटी किचन के माध्यम से फूड पैकेट उपलब्ध कराने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि आवश्यकतानुसार ड्राई राशन किट तैयार कर वितरित की जाएं।

उन्होने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में नौकाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। बाढ़ चौकियों की स्थापना, पेट्रोमैक्स की व्यवस्था करने के साथ-साथ तटबन्धों इत्यादि की प्रभावी पेट्रोलिंग की जाए। बाढ़ पीड़ितों को समय पर राहत सामग्री उपलब्ध कराते हुए उनकी हर सम्भव मदद की जाए। उन्होंने बाढ़ से उत्पन्न होने वाले संक्रमणों तथा अन्य स्वास्थ्यजनित परिस्थितियों के दृष्टिगत सभी तैयारियां करने के निर्देश दिए। पशुओं के इलाज, दवाइयों और चारे इत्यादि की भी पर्याप्त व्यवस्था रहे। उन्होंने पेट्रोल, डीजल, केरोसीन इत्यादि अन्य आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए।

बैठक में बताया गया कि 15 जिलों के 257 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 828 बाढ़ शरणालय स्थापित किये गये हैं। प्रदेश में 976 बाढ़ चौकियां स्थापित की गयी हैं। बाढ़ में फंसे लोगों को रेस्क्यू करने के लिए 1,133 नावें संचालित की जा रही हैं। बाढ़ पीड़ितों को पिछले 24 घण्टे मे 1,230 ड्राई राशन किट वितरित की गयी हैं, जबकि अभी तक कुल 7,015 राशन किट वितरित की जा चुकी हैं। इस अवधि में 7,491 लंच पैकेट बाढ़ पीड़ितों में वितरित किये गये हैं, जबकि अब तक कुल 28,028 लंच पैकेट वितरित किये गये हैं।

एनडीआरएफ, एसडीआरएफ तथा पीएसी की 39 टीमें प्रदेश के 22 जिलों के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में बचाव कार्याें के लिये तैनात की गयी हैं। एनडीआरएफ तथा एसडीआरएफ द्वारा अब तक 536 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। इसके अलावा, प्रदेश के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में 360 पशु शिविर भी स्थापित किये गये हैं। अब तक 7,24,329 पशुओं का टीकाकरण किया गया है। बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के लिए 409 मेडिकल टीम गठित की गयी हैं।



वार्ता